शेयर करें
Twitter

खेलपत्र नमस्कार। भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान सरदार सिंह ने हॉकी को हमेशा हमेशा के लिए अलविदा कह दिया है।

पांचवां टेस्ट मैच हार कर भी जीत गए टीम इंडिया के धुरंधर

सरदार ने अपने संन्यास को लेकर कहा कि उन्होंने बीते 12 सालों में भारतीय टीम के लिए काफी हॉकी खेला है, ऐसे में वह अब युवाओं के लिए जिम्मेदारी लेना चाहते है और नए उभरते हुए खिलाड़ियों को मौका देना चाहते है।

वहीं एशियाई खेलों को लेकर उन्होंने कहा कि भारतीय टीम का प्रदर्शन गेम्स में अच्छा नहीं रहा, जिससे भारत अपने खिताब का बचाव करने में असफल रहा और टीम को गेम्स में कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा।

संन्यास लेने के बारें में उन्होने कहा कि मैनें चंडीगढ़ में अपने परिवार, हॉकी इंडिया और अपने करीबी दोस्तों से सलाह लेने के बाद ही यह फैसला किया है।

सरदार सिंह ने देश के लिए 350 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले है जिनमें साल 2008 से 2016 तक करीब 8 सालों तक राष्ट्रीय टीम की कप्तानी संभाली थी।

सीरीज हारने को लेकर खुलकर बोलें कोहली, कहा- हम आखिर तक लड़ें

इसके बाद टीम की कमान पीआर श्रीजेश को सौपीं गई थी। सरदार सिंह को 2012 में अर्जुन पुरस्कार और 2015 में पद्द श्री से नवाजा गया था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here