शेयर करें
prithvi sha
Twitter

खेलपत्र नमस्कार। भारत और वेस्टइंडीज के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज में पहली बार 18 साल के युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ को मौका दिया गया है। शॉ भारत की तरफ से टेस्ट कैप पहनने वाले 293वें खिलाड़ी है।शॉ को कप्तान विराट कोहली ने टेस्ट कैप दी थी।

विजय हजारे ट्रॉफी में युवराज सिंह ने आतिशी पारी खेलते हुए जड़े 5 छक्के और 6 चौकें

पृथ्वी शॉ टेस्ट क्रिकेट में दूसरे कम उम्र के ओपनर खिलाड़ी है। जबकि सबसे कम उम्र में अपना पहला टेस्ट खेलने वाले बल्लेबाज विजय मेहरा थे, जिन्होंने 17 साल की उम्र में मुंबई के ब्रेबॉर्न स्टेडियम में दिसंबर 1995 में न्यूजीलैंड के खिलाफ डेब्यू किया था।

शॉ 14 प्रथम श्रेणी मैच खेलने के बाद ही टीम इंडिया की राष्ट्रीय टीम में आए हैं। आपको बताते चले कि शॉ की ही कप्तानी में भारत ने इसी साल अंडर-19 विश्व कप का खिताब जीता था। शॉ ने बीत वर्ष इसी मैदान में रणजी ट्रॉफी में खेला था और शतक बनाया था। उन्हें इसी मैदान में अंतरराष्ट्रीय डेब्यू करने का मौका मिला।

वहीं अगर बात करें कि सबसे कम उम्र में डेब्यू करने वाले स्पेशलिस्ट बल्लेबाजों में सचिन का नाम सबसे पहले आता है। क्रिकेट के भगवान कहें जाने वाले सचिन ने 16 साल 205 दिन की उम्र में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था।

वेस्टइंडीज के खिलाफ दो टेस्ट मैचों के लिए टीम इंडिया घोषित, शिखर बाहर, मयंक अदंर

पृथ्वी शॉ पहली बार तब सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने हैरिस शील्ड टूर्नामेंट में सेट फ्रांसिस के खिलाफ रिजवी स्प्रिंगफील्ड की ओर से खेलते हुए 330 गेंदों में 546 रन बना डाले थे।

बात करें माइनर क्रिकेट के रिकॉर्ड की तो पृथ्वी शॉ की 546 रनों की पारी चौथी सबसे बड़ी पारी है। भारत के ही प्रणव धनावड़े ने सबसे ज्यादा रन 1009 बनाकर टॉप खिलाड़ी है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here