शेयर करें

सालो से टीम इंडिया को जिस तेज गेंदबाज आलराउंडर तलाश थी उसकी कमी हार्दिक पांड्या ने पूरी कर दी है| कम से कम पाकिस्तान के साथ हुए मुकाबले के बाद ये तर्क पक्का हो जाात है|

जिस तरह से पांड्या ने आते ही पांच गेंदों में तबाड़तोड़ बीस रन बना डाले ऐसे ही आलराउंडर की तलाश टीम इंडिया को काफी सालों से थी| साल 2015-16 के सत्र में सात महीने के अंदर लगातार तीन वन डे सीरीज हारने के बाद तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को ये कहना पड़ा था कि टीम इंडिया के पास एक तेज गेंदबाजी करने वाले ऑलराउंडर की कमी है|इसके कारण विदेश पिचों पर हमें ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है|

हालांकि इसके एक हफ्ते बाद ही इस कमी को पूरा करने के लिए 22 साल के गुजराती ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या को 26 जनवरी को ऑस्ट्रे्लिया के खिलाफ टी-20 सीरीज के पहले ही मुकाबले में टीम इंडिया में शामिल कर लिया गया| तब किसी को ज्यादा उम्मीद नहीं थी कि हार्दिक इस पर खरे उतरेंगे,लेकिन ज्याद मैचों के साथ-साथ हार्दिक ने अपनी उपयोगिता साबित कर दी| हार्दिक की सबसे बड़ी खासियत ये है कि वो बेहतरीन बल्लेबाजी के साथ-साथ 140 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंद भी फेंक सकते हैं|

भारत के पास जडेजा और अश्विन जैसे स्पिन ऑलराउंडर तो  हैं लेकिन इरफान पठान के बाद कोई भी टीम को ऐसा ऑलराउंडर नहीं मिल सका जो बल्लेबाजी के साथ-साथ तेज गेंदबाजी भी करता हो| सबसे बड़ी बात ये है कि ये स्पिन ऑलराउंडर भारतीय पिचों पर तो कामयाब होते हैं लेकिन ऑस्ट्रेलिया,इंग्लैंड और न्यूजीलैंड जैसे देशों की तेज पिच पर उतने कामयाब नहीं हो पाते|

इसलिए हार्दिक इस मामले में सबों से फिट बैठते हैं| पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने तबाड़तोड़ बल्लेबाजी कर अपनी उपयोगिता सिद्ध कर दी है| हार्दिक ने बॉलिंग में भी अपनी प्रतिभा का बेहतरीन उदाहरण पेश किया और 8 ओवरो में  43 रन देकर दो विकेट भी लिए|

बड़ौदा और मुंबई ईंडिंयंस की तरफ से खेलने वाले हार्दिक ने अबतक आठ वन डे मैचों में 60 के औसत से एक हाफ सेंचुरी के साथ 180 रन बनाए हैं जबकि उन्होंने 11 विकेट भी लिए हैं| पांड्या को  टी-20 में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद पिछले साल न्यूजीलैंड के खिलाफ वन डे सीरीज में धर्मशाला में मौका दिया गया|

हार्दिक को इस मैच में बैटिंग करने का मौका नहीं मिला था,लेकन उन्होंने सात ओवर में 31 रन देकर तीन बल्लेबाजों का आउट करके अपनी उपयोगिता सिद्ध कर दी थी| पांड्या भारत के लिए 19 टी-20 मुकाबलों में 100 रन बनाने के साथ 15 विकेट भी ले चुके हैं|

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here