शेयर करें

चैंपियंस ट्रॉफी के ग्रुप ए  के एक मैच में इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को 87 रनों से हरा दिया| इस तरह वो सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बन गई| पहले ठोस बल्लेबाजी और फिर बाद में शानदार गेंदबाजी के दम पर इंग्लैंड ने ये कारनामा कर दिखाया|

इस जीत से इंग्लैंड दो मैचों में दो जीत से चार अंक के साथ शीर्ष पर है,जबकि न्यूजीलैंड के दो मैचों के बाद एक बेनतीजा मैच से एक अंक और वो चार टीमों में सबसे अंतिम स्थान पर है| इससे पहले इंग्लैंड के 311 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए न्यूजीलैंड की टीम 44.3 ओवर में 223 रन पर ढेर हो गयी| न्यूजीलैंड की तरफ से कप्तान केन विलियम्सन ने सबसे अधिक 87 रन बनाए|

विलियम्मसन ने गुप्टिल के साथ दूसरे विकेट के लिए 62 रनों की जबकि टेलर के साथ तीसरे विकेट के लिए 95 रनों की साझेदारी की| गुप्टिल ने 27 जबकि टेलने ने39 रनों का योगदान दिया| इंग्लैंड की तरफ से तेज गेदबाज प्लंकेट ने  47 रन देकर चार विकेट लिए जबकि स्पिनर आदिल रशीद ने 2 और जैक बॉल ने भी दो विकेट लिए|

इससे पहले इंग्लैंड ने शानदार बैटिंग के दम पर 49.3 ओवर में 310 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा  किया| इंग्लैंड की तरफ से जो रुट ने शानदार 64 रन बनााए जबकि बटलर ने 61 रनों का योगदान दिया| एलेक्स हेल्स ने 56 जबकि बेन स्टोक्स ने तेज 46 रन बनाए| न्यूजीलैंड की तरफ से कोरी एंडरसन ने 55 रन देकर 3 विकेट लिए जबकि मिल्ने ने भी तीन और साउदी ने दो विकेट लिए|

इनते बड़े स्कोर के लिए न्यूजीलैंड की तरफ से तेज और अच्छी शुरुआत की जरुरत थी लेकिन उसकी शुरुआत बेहद खराब रही| मैच के पहले ही ओवर में ओपनर ल्यूक रौंची शून्य पर आउट हो गए| इस झटके के बाद न्यूजीलैंड की टीम संभल नहीं सकी और एक समय केवल छह ओवर में महज 12 रन ही बना सकी| जिसमें तेज गेदबाज बॉल ने तीन ओवर में महज एक रन ही दिया| बाद में विलियम्सन ने मैच को संभालने की कोशिश की लेकिन दूसरे छोर से किसी भी बल्लेबाज ने उनका डटकर साथ नहीं दिया|

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here